प्रतिनिधित्व और Relaxation

प्रतिनिधित्व और Relaxation

प्रतिनिधित्व और Relaxation

मेरीट, गुणवत्ता, efficiency इनका संबंध Reservation से नहीं है, इनका तालुक Relaxation से है.

Reservation का संबंध Participation और Representation से है।.

और संविधान Participation और Representation देते समय कोई Relaxation की बात नहीं करता.

उदाहरण के तौर पर राजकीय आरक्षण का लाभ लेने के लिए आरक्षित चुनावक्षेत्र/मतदारसंघ/constituency से खड़े हुए SC ST के कैंडिडेट को कोई Relaxation नहीं दिया जाता है. यहाँ केवल Reservation है किसी तरह का Relaxation नहीं.

इसलिए राजकीय आरक्षण के संदर्भ मे मेरीट, गुणवत्ता, efficiency की चर्चा नहीं होती और ना ही किसी SC ST के MP MLA के बारे मे “वह मेरिटोरियस नहीं है, efficient नहीं है”, ऐसा बोला जाता है.

लेकीन शिक्षा और पब्लिक सर्विस्ज में आरक्षण के साथ Relaxation को जोड़ दिया गया है, इसलिए इन क्षेत्रों मे SC ST OBC के कैंडिडेटस की मेरीट, गुणवत्ता, efficiency का मुद्दा उपस्थित किया जाता है. ओर इन्हीं मुद्दों को आधार बनाते हुए नीचे दिए हुए चार महत्वपूर्ण क्षेत्रों में आरक्षण को नकारा गया है :-

1.Super specialty posts, courses in medical and engineering, physical sciences, mathematics, defense services, technical posts in research and development organizations/departments/institutions etc.

2.No reservation in promotion for Group A (Class One) posts.

3.Upper Judiciary

4.Private/Corporate sector

इन महत्वपूर्ण क्षेत्रों मे मेरीट, गुणवत्ता, efficiency के आधार पर आरक्षण नकारा गया, जबकि ये बातें Relaxation से जुड़ी है, इन क्षेत्रों में Participation चाहिए, Representation चाहिए, Reservation चाहिए है ना की Relaxation.

हमने अभी तक Participation और Representation के बजाय Relaxation, Concession पर फोकस किया और इस वजह से ऊपर बताये हुए चार महत्वपूर्ण क्षेत्रों पर Reservation के क्लेम को मजबूत नहीं बना पाए. हमे ऊपर बताये हुए चार क्षेत्रों में Reservation के माध्यम से Participation, Representation की जरूरत है, ना कि Relaxation की.

संदर्भ
Hemant M Tirpude FB 5.1.2019

Mahender Kumar
Author: Mahender Kumar

Journalist

Leave a Reply