परेशानी से मिलेगी निजात:अनुग्रह नारायण रोड स्टेशन पर दो स्वचालित सीढ़ियों का होगा निर्माण, होगी सहूलियत

औरंगाबाद26 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
अनुग्रह नारायण रोड स्टेशन  । - Dainik Bhaskar

अनुग्रह नारायण रोड स्टेशन ।

अनुग्रह नारायण रोड स्टेशन पर लोगों को सीढ़ियों से होने वाली परेशानी से निजात मिलेगी। अब इस रेलवे स्टेशन पर भी लोग लिफ्ट व स्वचालित सीढ़ी का आनंद उठा पाएंगे। फिलहाल लिफ्ट का निर्माण कार्य जारी है। जिसे जल्द से जल्द शुरू करने की तैयारी में रेलवे बोर्ड है। अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत एएन रोड स्टेशन भी चयनित है। स्टेशन पर यात्री सुविधा बढ़ाने के साथ- साथ इसका सौंदर्यीकरण भी किया जाना है। रेलवे बोर्ड की माने तो बहुत जल्द ही रेलवे स्टेशन पर स्वचालित सीढ़ी की सौगात मिलने वाली है।

इसका लाभ रेलवे यात्रियों को बहुत जल्द मिलेगी। स्टेशन पर दो स्वचालित सीढ़ी का निर्माण कराया जाना है। इसका प्रस्ताव पूर्व में ही रेलवे बोर्ड को भेजा जा चुका है। जिसकी स्वीकृति भी मिली है। रेलवे स्टेशन पर बनने वाली स्वचालित सीढ़ी निर्माण को लेकर कागजी प्रक्रिया जारी है। कागजी प्रकिया पूरी होने के बाद टेंडर की प्रक्रिया होगी और उसके बाद निर्माण कार्य जल्द हीं शुरू कर दिया जाएगा। रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं से जुड़े पूर्व में स्वीकृत व लंबित विकास कार्यों को अब एक-एक कर पूरा करने की दिशा में विभाग जुट गया है। सांसद सुशील कुमार सिंह के पहल पर यात्री सुविधा बढ़ाने के साथ- साथ विभिन्न ट्रेनों का ठहराव भी किया गया है।

स्टेशन पर 10 से 20 करोड़ रुपये का होगा निवेश

इस नई योजना के तहत स्टेशन पर 10 से 20 करोड़ रुपये का निवेश होगा और काम एक साल या अधिकतम डेढ़ साल में पूरा किया जाएगा। रेलवे अधिकारियों के अनुसार इस योजना के तहत स्टेशनों के आधुनिकीकरण में सड़कों को चौड़ा करने, अवांछित संरचनाओं को हटाने, उचित रूप से डिज़ाइन किए गए साइनेज, समर्पित पैदल मार्ग, अच्छी तरह से नियोजित पार्किंग क्षेत्र और बेहतर लाइट की व्यवस्था सुनिश्चित करना शामिल होगा। स्टेशन पर इंटरनेट कनेक्टिविटी भी बढ़ाई जाएगी। जिसका रेलवे स्टेशनों के उपयोगकर्ताओं को मुफ्त वाई-फाई की सुविधा प्रदान की जाएगी। इस मास्टर प्लान में 5जी टावर इरेक्शन भी शामिल है। वहीं वेटिंग रूम, प्लेटफॉर्म, रिटायरिंग रूम और कार्यालयों में अधिक आरामदायक और टिकाऊ बनाने के लिए फर्नीचर को बदला जाएगा।

खबरें और भी हैं…

Source link

Mahender Kumar
Author: Mahender Kumar

Journalist

Leave a Comment