दिल्ली-NCR के कुछ हिस्सों में भारी बारिश, आंधी; कई इलाकों में जलजमाव


7aavcmmo delhi दिल्ली-NCR के कुछ हिस्सों में भारी बारिश, आंधी; कई इलाकों में जलजमाव

दिल्ली-एनसीआर के कुछ हिस्सों में मंगलवार तड़के गरज के साथ भारी बारिश हुई, जिससे सुबह यात्रियों को दफ्तर समेत अन्य स्थानों पर पहुंचने में असुविधा होने की संभावना है. दिल्ली के कई हिस्सों और गाजियाबाद समेत आसपास के इलाकों में मंगलवार तड़के आंधी के साथ भारी बारिश हुई. 

दिल्ली के कई इलाकों में बारिश के बाद जलजमाव की समस्या हो गई है. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने अभी दिल्ली और आस-पास के क्षेत्रों में हल्की से मध्यम-तीव्रता वाली बारिश के साथ गरज के साथ छींटे पड़ने की भविष्यवाणी की है.

मौसम विभाग ने मंगलवार सुबह जारी एक बयान में कहा, “अगले 2 घंटे के दौरान पूरी दिल्ली और एनसीआर, गन्नौर, महम, तोशाम, रोहतक, भिवानी (हरियाणा) बड़ौत, शिकारपुर, खुर्जा (यूपी) के आस-पास के क्षेत्रों में अलग-अलग स्थानों पर हल्की से मध्यम तीव्रता की बारिश गरज के साथ होगी.”

आईएमडी के मुताबिक किठौर, गढ़मुक्तेश्वर, पिलाखुआ, हापुड़, गुलावटी, सियाना, सिकंदराबाद, बुलंदशहर, जहांगीराबाद, अनूपशहर, बहाजोई, पहासू, देबई, नरौरा, गभाना, सहसवान, जट्टारी, अतरौली, खैर, अलीगढ़, कासगंज,  नंदगांव, इगलास, सिकंदरा राव, बरसाना, राया, हाथरस, मथुरा (यूपी) डीग (राजस्थान) में भी बारिश का अनुमान है. 

IMD ने लोगों को यह भी सुझाव दिया है कि वो ट्रैफिक एडवाइजरी का पालन करें. घर के अंदर रहें, खिड़कियां और दरवाजे बंद करें और अगर संभव हो तो यात्रा से बचें. सुरक्षित आश्रय लें, पेड़ों के नीचे आश्रय न लें और कंक्रीट के फर्श पर न लेटें और कंक्रीट की दीवारों पर ना अड़ें.”

आईएमडी ने सुझाव दिया, “निचले इलाकों में जल जमाव, ओलावृष्टि और बारिश के कारण ट्रैफिक और फिसलन भरी सड़कें लोगों और मवेशियों को खुले जगहों में घायल कर सकती हैं.” इससे पहले गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में आंधी के साथ बारिश हुई. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने गुरुवार को भविष्यवाणी की, “उत्तर पश्चिम भारत में 30 मार्च से 1 अप्रैल तक इस क्षेत्र में व्यापक वर्षा / आंधी, बिजली / तेज हवाओं के छींटे पड़ने की संभावना है.”

यह भी पढ़ें –

शोभायात्रा के दौरान हुए दंगों का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, हिंदू फ्रंट फॉर जस्टिस ने अर्जी दाखिल की
इतिहास से मुगल बाहर? CBSE और UP बोर्ड के 12वीं के पाठ्यक्रम में मुगल काल पर चली कैंची


Source link

Mahender Kumar
Author: Mahender Kumar

Journalist

Leave a Comment