छात्रा प्रियंका कुमारी गोरखपुर विश्वविद्यालय की गलती केवल इतनी है कि है पढ़ने में बहुत तेज थी 3 दिन पहले वह प्रतियोगिता में प्रथम आई थी और इसकी सबसे बड़ी गलती है कि है दलित थी
गोरखपुर विश्वविद्यालय में एक और होनहार दलित छात्रा का संदेहास्पद मौत

गोरखपुर विश्वविद्यालय में एक और होनहार दलित छात्रा का संदेहास्पद मौत

गोरखपुर विश्वविद्यालय में एक और होनहार दलित छात्रा का संदेहास्पद मौत

प्रियंका कुमारी गोरखपुर विश्वविद्यालय में एक और होनहार दलित छात्रा का संदेहास्पद मौत, असुर छात्र संगठन का आरोप है, कि लड़की की गलती केवल इतनी है कि है पढ़ने में बहुत तेज थी 3 दिन पहले वह प्रतियोगिता में प्रथम आई थी और इसकी सबसे बड़ी गलती है कि है दलित थी.
दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में शनिवार सुबह परीक्षा देने आई बीएसएसी (गृह विज्ञान) की छात्रा प्रियंका कुमारी का शव विश्वविद्यालय के गृह विज्ञान विभाग में स्टोर के पास फंदे से लटका मिला और आत्महत्या नहीं लग रहा है लड़की का पैर जमीन को छू रहा है। प्रथम दृष्टया खुदकुशी का मामला माना जा रहा है। हालांकि मौत की वजह अभी तक सामने नहीं आई है। फोरेंसिक टीम के साथ पहुंची कैंट पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है

गोरखपुर विश्वविद्यालय से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है साथियों दलित समाज की होनहार छात्रा प्रियंका कुमारी का रहस्यमई मृत्यु विश्वविद्यालय प्रशासन को सवालों के घेरे में खड़ा कर रहा है ? गोरखपुर विश्वविद्यालय प्रशासन इस हत्या को आत्महत्या बता रहा है और मामले को दबाने की पूरी कोशिश कर रहा है. आत्महत्या नहीं लग रहा है लड़की का पैर जमीन को छू रहा है? गोरखपुर विश्वविद्यालय में एक और होनहार दलित छात्रा का संदेहास्पद मौत.

असुर छात्र संगठन का आरोप है, की कि छात्रा प्रियंका कुमारी की गलती केवल इतनी है कि है पढ़ने में बहुत तेज थी 3 दिन पहले वह प्रतियोगिता में प्रथम आई थी और इसकी सबसे बड़ी गलती है कि है दलित थी.

असुर छात्र संगठन का आरोप है, की कि लड़की की गलती केवल इतनी है कि है पढ़ने में बहुत तेज थी 3 दिन पहले वह प्रतियोगिता में प्रथम आई थी और इसकी सबसे बड़ी गलती है कि है दलित थी.
गुलरिहा थाना क्षेत्र के शिवपुर साहबाजगंज पोखरो टोला निवासी विनोद कुमार की 21 वर्षीय पुत्री प्रियंका गोरखपुर विश्वविद्यालय में बीएससी (गृह विज्ञान) तृतीय वर्ष की छात्रा थी। शनिवार सुबह नौ बजे से दीक्षा भवन में प्रियंका की परीक्षा थी।

सुबह साढ़े दस बजे परीक्षा देकर वह कक्षा से बाहर निकली। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, अंतिम बार उसे विभाग के शौचालय की ओर जाते देखा गया। दोपहर करीब 12 बजे गृह विज्ञान विभाग के शौचालय की तरफ गई कुछ छात्राओं ने स्टोर रूम के पास गैलरी में फंदे से लटकता छात्रा का शव देखकर शोर मचाया।
क्या दलित होना गुनाह है? हत्या की आशंका? गोरखपुर के छात्र संगठन ने संदेह जताया है, कि यह हत्या हो सकती है, रात 12.30 बजे तक विश्वविद्यालय छात्रा प्रियंका कुमारी का पोस्टमार्टम न होने पर मेडिकल कालेज के अंदर मर्चरी हाउस के सामने एवं मेन रोड पुलिस चौकी के सामने प्रदर्शन करते हुए ।

छात्र नेताओं (ASUR-असुर (छात्र संगठन)) ने कड़ी चेतावनी दी है प्रियंका कुमारी को अगर न्याय नहीं मिला तो होगा भीषण आंदोलन जिसकी पुरी जिम्मेदारी गोरखपुर विश्वविद्यालय प्रशासन एवं गोरखपुर पुलिस प्रशासन की होगी!
एसपी सिटी सोनम कुमार ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन से मिली सूचना के बाद तत्काल पुलिस पहुंच गई। फंदे से लटका छात्रा का शव मिला है। सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह स्पष्ट होगी।

गोरखपुर विश्वविद्यालय में एक और होनहार दलित छात्रा का संदेहास्पद मौत
Kajal Manikya
Author: Kajal Manikya

Leave a Reply